तो क्या हम हिन्दू महा मूर्ख नहीं हैं ???

Date: 14/07/2015

In a message dated 14/07/2015 06:05:37 GMT Daylight Time, xxxxxxxxxxx writes:

हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म , ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं ------दिककार है ऐसे हिन्दुओं पर -----

१ . ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू इफ्तार के भोज पर , अभिमान से जाते हैं -----चाव से हलाल मांस खाते हैं --- मुसलमान हिन्दुओं के लिए उस दिन क्या शाकाहारी भोजन बनाते हैं ? नहीं , कभी नहीं ----- हिन्दू मुसलमानों को भोज पर बुलातें हैं तो उन के लिए हलाल मांस बनातें हैं ---- हिन्दू क्यों मुसलमानों और ईसाईयों के दास हैं ----
२ . १९४७ में हिन्दू लगभग ९० % और मुसलमान लगभग ८ % और अन्य लगभग २ % थे अब २०१५ में हिन्दू लगभग ८० % , मुसलमान लगभग १४ % अन्य लगभग ६% ---what has happened to hinduus???

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं , और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं -------
३ . राम को रामा कहते हैं किन्तु मुहमद को मुहमदा नहीं कहते , गुरु नानक को गुरु नानका नहीं कहते
धर्म को धर्मा कहते हैं किन्तु महज़ब को महज़बा नहीं कहते ------

रामायण को रामायणा किन्तु कुरान को कुराना नहीं कहते , ग्रन्थ साहिब को ग्रन्था साहिबा नहीं कहते
योग को योगा कहते हैं किन्तु कसरत को कसरता नहीं कहते -------
ऐसे अनगिनत अनेक उदाहरण हैं ---------------
इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते भी हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं --------------
४ . हिन्दू ८० % होते हुए भी अपने मंदिरों को सरकार के हथकंडों से नहीं बचा सके
५ . हज अनुदान हटा नहीं सके ----
६ . हिन्दू यात्रीयो का यात्रा कर हटवा नहीं सके ------
७ . १२ % मुसलमान और ८६ % हिन्दुओं के होते हुए तेलंगाना में उर्दू प्रथम भाषा को हटवा नहीं सके
८ . १२ % मुसलमान और ८६ % हिन्दुओं के होते हुए तेलंगाना में---- रामदान की सरकारी व्यवस्था हटवा नहीं सके

ऐसे अनेक अनगिनत उदाहरण हैं ------
इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं
९ . ३ % ईसाई हिन्दुस्थान को ईसाईस्थान बनाते जा रहें हैं , और अपनी सख्या बढ़ाते जा रहें हैं
१२ % मुसलमान हिन्दुस्थान को इस्लामिकस्तान बनाते जा रहें हैं , और अपनी सख्या बढ़ाते जा रहें हैं

२ % सिख हिन्दुस्थान को खालिसस्थान बनाते जा रहें हैं और अपनी सख्या बढ़ाते जा रहें हैं

१० . और ८० % हिन्दू अपनी सख्या घट|ते जा रहें हैं और अपने देश खोते जा रहे हैं जैसे श्री लंका , बरमा , ईरान , ईराक , अफगानिस्तान , पाकिस्तान, बंगला देश आदि आदि अनेक अन्य देश खो चुके हैं और अब हिन्दुस्थान भी खो दे गें ----- निंद्रा में खोए हुए हिन्दू , हिन्दुस्थान को खोते जा रहें हैं

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते भी हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं --------------
A . तनिक हिन्दुस्थान से बाहर आ कर देखिये -----
84 riots were organized by anti - hinduu congress party and not by hinduus , hinduus saved many many sikhs at that time but sikhs blame hinduus for 84 riots , took revenge against innocent hinduus and still taking this revenge ---
but all following happened before 84 riots : --
० . सिखों ने हरी मंदिर को हर मंदर कहना आरम्भ कर दिया
१ . सिखों ने आंदोलनों द्वारा शब्दकोषों में से निकलवाया सिख हिन्दू हैं .
२ . पंजाब को दो भागों में बटवाया और एक भाग को पंजाब और दूसरे भाग को हरयाणा बनवाया कि पंजाब में सिख बहुमत होगें तो पंजाब को खालिस्थान बनवाया जाए गा --------
३ .सिखों ने पंजाब में १० से १२ वर्ष हिन्दुओं को बसों , गाड़ियों से निकाल निकाल कर उन की हत्याएं की ------
४ . सिखों ने हिन्दुओं को घरों , कार्यालयों आदि आदि में घुस घुस कर मारा , उन की हत्याएं की --------
५ . सिखों ने अपना अलग से सिख ध्वज बनाया
६ . सिखों ने हिन्दुस्थान का राज्य पलटने के लिए स्वर्ण मंदिर को सैनिक दुर्ग बनाया ----
७ . कनिष्का वायुयान [AIR INDIA ] गिरा कर लगभग ३२९ हिन्दुओं की हत्याएं की ---------
८ . इंदिरा गांधी की ह्त्या की गुरुद्वारों में इंदिरा गांधी के हत्यारों के चित्र लगे हुएं हैं और उन्हें देश भक्त कहा गया है -------
९ .अब सिख अपना अलग कैलंडर बना रहें हैं ऐसे अनेक और भी अनगिनत कई उदाहरण हैं ,
१० . सिख अपने आप को हिन्दुओं से अलग करने के लिए एक एक कर अनेक प्रयास करते रहें गें ---------
११ . सिख तनिक तनिक कर मुसलमानों का अनुसरण कर रहे हैं और मुसलमानों के पास और हिन्दुओं से दूर होते जा रहें हैं -
१२ . अमृतधारी सिखणियां मुस्लमानियों की भाँती सिर डापती हैं
१२ . सिख और सिखनिया मुसलमानों की भाँती हिन्दुओं की आलोचना कर रहे हैं
१३ . नमस्ते के स्थान पर ''सत श्री अकाल'' कहते हैं ------------
ऐसे अनेक अनगिनत उदाहरण हैं
१४ . ---- Sikhs never celebrate 15th Aug. and 26th Jan. and disturb Hindus when Hinduus celebrate 15th Aug. and 26th Jan.
हिन्दू गुरू द्वारे जाते हैं सिख मंदिरों में नहीं आते ----------
हिन्दू ''सुख मणि पाठ करते हैं , सिख हनुमान चालीसा पाठ नहीं करते -------
सब हिन्दू कहते हैं '' सिख हिन्दू हैं '' किन्तु सिख नहीं कहते ------
सिख हिन्दू को कहते हैं '' हमें गाली मत दो कि '' सिख हिन्दू हैं '' -------
ऐसे अनेक अनगिनत उदाहरण हैं -
all this happened before 84 riots --- though hinduu saved sikhs during 84 riots -----

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते हैं , धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं-------
पंजाबी संस्थाएं [ Panjabi organizations ] और पंजाबी वृद्ध दल

[ Panjaabi senior groups ] और सिख गुरूद्वारे आदि आदि १५ अगस्त और २६ जनवरी कभी भी नहीं मनाते --------
सिख'' दिवाली '' मनाते हैं और कहते हैं कि '' दिवाली '' हम छटे गुरु की कारावास से मुक्ति के कारण मनातें हैं ---- और इस का हिन्दुओं से कोई सम्बन्ध नहीं
सिख '' बैसाखी '' मनाते हैं और कहते हैं कि हम '' खालसा पंथ '' की रचना क़े कारण मनातें हैं ----------और इस का हिन्दुओं से कोई सम्बन्ध नहीं
''तीजो '' को ''तिया'' का मेला कह कर मनातें हैं और केवल उस में ''भागड़ा और गिद्दा'' ही होता हैं ---------और कहते हैं इस का हिन्दुओं से कोई सम्बन्ध नहीं
सिख कहते हैं कि जो राम और कृष्ण आदि आदि ''गुरु ग्रन्थ साहिब '' में हैं वे हिन्दुओं वाले नहीं हैं --------
हिन्दू मंदिर १५ अगस्त और २६ जनवरी मनातें हैं किन्तु

पंजाबी संस्थाएं [ Panjabi organizations ] और पंजाबी वृद्ध दल

[ Panjaabi senior groups ] और
सिख गुरूद्वारे कभी भी नहीं मनातें ----

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं ------- -------
B . आरम्भ में सिख हिन्दू ही थे , वे मृत्यु पर गीता ही पड़ते थे , अब केवल ग्रन्थ साहिब ही पड़ते हैं और गीता पड़ने नहीं देते -----
मृतक की हड्डियां गंगा में ही बहाते थे , अब नहीं , अब किसी अन्य स्थान पर बहाते हैं -------
सिख वेद , रामायण , महाभारत , गीता आदि ही पड़ते थे अब नहीं अब केवल ग्रन्थ साहिब पड़ते हैं , वेद , रामायण , महाभारत , गीता आदि पड़ने नहीं देते
सिख पहले हनुमान चालीसा ही पड़ते थे अब नहीं और अब केवल सुखमनी ही पड़ते हैं और हनुमान चालीसा पड़ने नहीं देते ------

गुरूद्वारे में सिखणियां और अन्य नारियां साडी पहन कर नहीं आ सकती
ऐसे अनेक अनगिनत उदाहरण हैं -----

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं --------------
------ इस बात को हिन्दू नहीं समझते --------
पंजाबी का अर्थ सिख नहीं , पंजाब में ५० % हिन्दू हैं और ५० % सिख और कुछ ईसाई और कुछ मुसलमान हैं ---------
सिख पहले व्रत आदि रखते थे अब नहीं ---
ऐसे अनेक अनगिनत उदाहरण हैं -----

इस लिए हम कहतें हैं -----हिन्दुओं का ना धर्म ना कर्म ------ऐसे मंद बुद्धि हिन्दू अपने आप को उन्नत प्रगतिवान मानते हैं और कहते हैं और धर्म निरपेक्ष कह|ते हैं --------------
C . मंदिरो में हम हिन्दू अल्ला ,अली , मुस्तफा , खुदा आदि आदि के गाने गाते हैं किन्तु मस्जिदों में भगवान , प्रभु , राम , कृष्ण आदि आदि के गाने नहीं गा सकते , मस्जिदों में क्या मुसलमानों की मंच पर भी नहीं गा सकते ----

D . तो क्या हम हिन्दू धर्म , कर्म रहित नहीं हैं ???

तो क्या हम हिन्दू मंद बुद्धि नहीं हैं ???

तो क्या हम हिन्दू उन्नत प्रगतिवान हैं ???
तो क्या हम हिन्दू धर्म निरपेक्ष हैं ???

E .

जो लोग इफ्तार भोज देते हैं क्या वे सब

1 . दिवाली,

2 . विजय दशमी ,
3 . महा शिवरात्रि ,

4 .राम नवमी ,

5 . कृष्ण अष्टमी ,

6 . रक्षा बंदन ,

7 . दुर्गा अष्टमी ,

8 . हनुमान जयन्ती ,

9 . गीता जयन्ती भोज देते हैं ??? ---muslims are about 12% and hinduus are abour 80 % the ratio is about 1 and 7 or 8 if muslim party is given 1or 2 then hinduu parties must be given 7 or 14 / 8 or 16 parties ----
तो क्या हम हिन्दू महा मूर्ख नहीं हैं ???


==================
000000000